इस साल का सावन मास (22 जुलाई 2024 से 19 अगस्त 2024 तक) कई दुर्लभ संयोगों से युक्त है। यह श्रद्धालुओं के लिए विशेष फलदायी माना जा रहा है।

हिंदू धर्म में श्रावण मास का विशेष धार्मिक महत्व होता है। इसे साल का सबसे पवित्र महीना माना जाता है। इस महीने को श्रावण महीना या सावन मास भी कहते हैं। श्रावण में भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा बहुत श्रद्धा और भक्ति भाव से की जाती है। इस बार के सावन माह दो दुलर्भ संयोगों से भरा हुआ है। पहला तो इस बार श्रावण मास की शुरुआत सोमवार के पवित्र दिन से शुरू हो रहा है। दूसरा इस बार पूरे सावन में कुल 5 सोमवार के दिन पड़ेंगे। ऐसे में आइए इस लेख में श्रावण मास से जुड़ी सभी जानकारियों के विस्तार से जानते हैं।

Sawan 2024 इन संयोगों में शामिल हैं:

5 सोमवार: इस साल 5 सावन सोमवार हैं, जो अत्यंत शुभ माना जाता है।

ग्रहों की स्थिति: सोमवार के स्वामी चंद्रमा वृषभ राशि में उच्च के होंगे, जो सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करेगा।

शुभ योग: सभी पांचों सोमवार विभिन्न शुभ योगों में लगेंगे, जैसे कि रवि योग, पुष्य योग, सिंह योग, कर्क योग और मकर योग

पूर्णिमा तिथि: श्रावण पूर्णिमा शुक्रवार को पड़ेगी, जो अत्यंत दुर्लभ है।

Sawan 2024:सावन सोमवार में इस प्रकार रखे व्रत नोट कर लें इस बार कब पड़ेंगे सावन

श्रावण में क्या होता है?
इस पावन मास में श्रद्धालु भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करते हैं। श्रावण मास में ज्यादातर श्रद्धालु सोमवार के दिन व्रत रखते हैं और भगवान शिव की शुद्ध मन से पूजा करते हैं। अविवाहित लड़कियां श्रावण के हर मंगलवार को मंगला गौरी का व्रत रखती हैं। कुछ महिलाएं मनचाहा पति पाने के लिए सोमवार व्रत करती हैं और भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त करती हैं। श्रावण के दौरान कांवड़ यात्रा भी बहुत प्रसिद्ध है, जिसमें श्रद्धालु पवित्र गंगा के पास विभिन्न धार्मिक स्थानों पर जाते हैं और वहां से गंगाजल लाकर शिवरात्रि के दिन भगवान शिव को चढ़ाते हैं।

Sawan 2024 श्रावण का महत्व – समुद्र मंथन की कहानी
हिंदू धर्म के ग्रंथों के अनुसार, समुद्र मंथन के समय निकले सारे जहर को भगवान शिव ने पी लिया था। ऐसा उन्होंने इसलिए किया क्योंकि वो विष इतना खतरनाक था कि वो पूरी दुनिया को खत्म कर सकता था। भगवान शिव ने सारे विष को पीकर दुनिया और जीव जंतुओं को बचा लिया, लेकिन वो जहर उनके गले में ही रह गया। इसी वजह से उन्हें नीलकंठ कहा जाता है। इसके बाद सभी देवी-देवताओं और राक्षसों ने भगवान शिव को गंगाजल और दूध पिलाया ताकि जहर का असर कम हो सके। यही कारण है कि श्रावण में लोग दूर-दूर से गंगाजल लाकर भगवान शिव को चढ़ाते हैं।

Sawan 2024 श्रावण पूजा विधि
श्रद्धालु सुबह जल्दी उठकर पूजा शुरू करने से पहले स्नान करें। भगवान शिव और माता पार्वती की प्रतिमा रखें, दीप जलाएं और प्रार्थना करें। शिव चालीसा, शिव तांडव स्तोत्र और श्रावण मास कथा का पाठ करें। शिव मंदिर जाएं और शिवलिंग पर पंचामृत (दूध, दही, शक्कर, शहद और घी) चढ़ाएं। शिवलिंग पर जल चढ़ाएं और फूलों और बेलपत्र से सजाएं। बेलपत्र भगवान शिव को बहुत प्रिय है। भगवान शिव को मिठाई का भोग लगाएं। अंत में भक्तों के माथे पर चंदन का लेप लगाएं और इत्र छिड़कें।

पूजा करते समय इन 3 मंत्रों का जाप कर सकते हैं
ॐ नमः शिवाय !!
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम् | उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात ||
कर्पूर गौरं करुणावतारं संसार सारं, भुजगेंद्र हारम | सदा वसंतं हृदये, अरविंदे भवं भवानी सहितं नमामि ||

डिस्क्लेमर ये लेख लोक मान्यताओं पर आधारित है। इस लेख में शामिल सूचना और तथ्यों की सटीकता, संपूर्णता के लिए KARMASU.IN उत्तरदायी नहीं है। 

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
सहायता
Scan the code
KARMASU.IN
नमो नमः मित्र
हम आपकी किस प्रकार सहायता कर सकते है