पौष महीने की अष्टमी पर शक्ति पूजा से प्रसन्न होती हैं देवी दुर्गा, सेहत के लिए भी अच्छा है इस दिन व्रत-उपवास करना

Durgashtami2024अष्टमी तिथि की स्वामी देवी दुर्गा होती हैं। इसलिए हर महीने के शुक्लपक्ष में इस तिथि पर शक्ति पूजा और व्रत-उपवास करने का विधान पुराणों में बताया गया है। शक्ति पूजा के साथ नियम से व्रत या उपवास किया जाए तो सेहत भी अच्छा रहता है। इससे बीमारियां भी दूर होती हैं और उम्र बढ़ती है। हर महीने मौसम में थोड़े बदलाव होते हैं। जिससे बीमारियों का संक्रमण होता है। इसलिए ऋषियों हर व्रत-उपवास की परंपरा बनाई। जिससे पाचन अच्छा रहता है और शरीर में बीमारियों से लड़ने की ताकत बढ़ती है।

Durgashtami2024:मासिक दुर्गाष्टमी का शुभ मुहूर्त

मासिक दुर्गाष्टमी के दिन अभिजीत मुहूर्त में मां दुर्गा की पूजा करना शुभ माना जाता है।

Durgashtami2024:मासिक दुर्गाष्टमी के उपाय

मासिक दुर्गाष्टमी के दिन कुछ उपाय करने से मां दुर्गा की कृपा प्राप्त होती है।

  • नवग्रहों की शांति के लिए मां दुर्गा को नौ कलश अर्पित करें।
  • धन प्राप्ति के लिए मां दुर्गा को लाल रंग का वस्त्र अर्पित करें।

Durgashtami2024:पौष महीने में देवी आराधना
पौष महीने में शीत ऋतु होती है। इस महीने में बीमारियों से बचने के लिए सूर्य पूजा की जाती है। साथ ही पुराणों में इसके लिए देवी पूजा के लिए अष्टमी तिथि तय की गई है। पौष महीने में की गई शक्ति आराधना से हर तरह की परेशानियां दूर होती हैं। 2022 के पहले महीने में आने वाली मासिक Durgashtami2024 दुर्गा अष्टमी को शक्ति की आराधना जरूर करनी चाहिए ताकि सालभर मुश्किलों से लड़ने की ताकत मिले और देवी मां की कृपा हमेशा बनी रहे।

स्कंद षष्ठी पर इस शुभ मुहूर्त में विधान से करें पूजा, घर में बनी रहेगी खुशहाली!

Durgashtami2024:शक्ति पूजा की विधि

  1. सूर्योदय से पहले उठें और पानी में गंगाजल डालकर नहाएं।
  2. चौक पूरकर लकड़ी के पटे पर पर लाल कपड़ा बिछाएं।
  3. मां दुर्गा के मंत्र का जाप करते हुए मूर्ति स्थापित करें।
  4. लाल या गुड़हल के फूल, सिंदूर, अक्षत, नैवेद्य, सिंदूर, फल और मिठाई से मां दुर्गा के सभी रूपों की पूजा करें।

Durgashtami2024:शक्ति की आराधना के लिए मंत्र जाप करें
या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥

अष्टमी व्रत का महत्व
मान्यता है कि हर हिंदू मास में शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को दुर्गा अष्टमी का व्रत किया जाता है। इस व्रत का देवी दुर्गा का मासिक व्रत भी कहा जाता है। आमतौर पर हिंदू कैलेंडर में अष्टमी दो बार आती है। एक कृष्ण पक्ष में दूसरी शुक्ल पक्ष में। शुक्ल पक्ष की अष्टमी पर खासतौर से देवी दुर्गा का पूजा और व्रत किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
सहायता
Scan the code
KARMASU.IN
नमो नमः मित्र
हम आपकी किस प्रकार सहायता कर सकते है