संस्कृत में टमाटर: नामों की विस्तृत व्याख्या और उदाहरण

Tomato in sanskrit

पिछले उत्तर में, मैंने संस्कृत में प्याज के लिए अनेक संस्कृत नामों का उल्लेख किया था। अब, मैं टमाटर नामों को विस्तार से समझाऊंगा और कुछ उदाहरण भी दूंगा:

1. अमृतोदभव:

  • विस्तार: यह नाम टमाटर को “अमरत्व का जल” प्रदान करने वाला मानता है।
  • उदाहरण: “अमृतोदभवं भक्ष्यं स्वास्थ्यवर्धकं भवति।” (टमाटर का सेवन स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।)

2. रक्तवर्ण:

  • विस्तार: यह नाम टमाटर के चमकीले लाल रंग पर ध्यान केंद्रित करता है।
  • उदाहरण: “रक्तवर्णं शाकं चटनीं कुरुते।” (टमाटर से चटनी बनाई जाती है।)

3. पेरूवृक्षफल:

  • विस्तार: यह नाम टमाटर के मूल स्थान, दक्षिण अमेरिका के पेरू को दर्शाता है।
  • उदाहरण: “पेरूवृक्षफलं विदेशी फलं भवति।” (टमाटर एक विदेशी फल है।)

4. तामलफल:

  • विस्तार: यह नाम टमाटर के स्वाद और सुगंध की तुलना तामल के पेड़ के फल से करता है।
  • उदाहरण: “तामलफलस्य सुगन्धः मनोहरः भवति।” (टमाटर की सुगंध मनमोहक होती है।)

5. बंगालवृक्षफल:

  • विस्तार: यह नाम टमाटर के भारत में आगमन के मार्ग को दर्शाता है, जो बंगाल के माध्यम से हुआ था।
  • उदाहरण: “बंगालवृक्षफलं भारते प्रचलितं भवति।” (टमाटर भारत में लोकप्रिय है।)

6. टमाटर:

  • विस्तार: यह शब्द स्पेनिश भाषा से लिया गया है और वर्तमान में टमाटर के लिए सबसे आम नाम है।
  • उदाहरण: “टमाटरं रसोईघरे सर्वत्र उपलभ्यं भवति।” (टमाटर रसोई में आसानी से उपलब्ध होता है।)

7. अग्निमंथ:

  • विस्तार: यह नाम टमाटर के तीखे स्वाद को “आग” के मंथन से दर्शाता है।
  • उदाहरण: “अग्निमंथं शाकं तीक्ष्णं भवति।” (टमाटर की सब्जी तीखी होती है।)

8. लालभिंडी:

  • विस्तार: यह नाम टमाटर के लाल रंग और भिंडी के आकार की समानता पर आधारित है।
  • उदाहरण: “लालभिंडी भोजनं स्वादिष्टं करोति।” (टमाटर भोजन को स्वादिष्ट बनाता है।)

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि विभिन्न क्षेत्रों और कालखंडों में टमाटर के लिए विभिन्न नाम उपयोग किए जाते थे।

उदाहरण के लिए:

  • दक्षिण भारत में: “अमृतोदभव” और “रक्तवर्ण” नाम अधिक प्रचलित थे।
  • उत्तर भारत में: “टमाटर” और “लालभिंडी” नाम अधिक प्रचलित थे।
  • प्राचीन काल में: “पेरूवृक्षफल” और “तामलफल” जैसे नाम अधिक प्रचलित थे।

संस्कृत में तामलफल: टमाटर के लिए एक रोचक नाम

तामलफल संस्कृत में टमाटर के लिए एक असामान्य लेकिन दिलचस्प नाम है। आइए इसका अर्थ और उपयोग को गहराई से समझते हैं:

  • शाब्दिक अर्थ: “तामल” शब्द का अर्थ “तमाल का पेड़” होता है, जो दालचीनी के पेड़ का एक प्रकार है। “फल” का अर्थ “फल” होता है। इसलिए, तामलफल का शाब्दिक अर्थ “तमाल का फल” होता है।
  • नामकरण का कारण: यह नाम टमाटर के स्वाद और सुगंध की तुलना तामल के पत्तों से करता है। दोनों में एक हल्का मसालेदार और सुगंधित स्वाद होता है।
  • प्रयोग: यह नाम अपेक्षाकृत कम प्रचलित है। “रक्तवर्ण” (लाल रंग का) या “अमृतोदभव” (अमरत्व का जल) जैसे नाम टमाटर के लिए अधिक व्यापक रूप से उपयोग किए जाते हैं।
  • क्षेत्रीय प्रयोग: तामलफल नाम का उपयोग किसी विशिष्ट क्षेत्र या कालखंड से विशेष रूप से नहीं जुड़ा हुआ है। यह संभव है कि इसका उपयोग उन विद्वानों या कवियों द्वारा किया जाता था, जो टमाटर के स्वाद प्रोफाइल के सूक्ष्म विवरणों का वर्णन करना चाहते थे।

निष्कर्ष: तामलफल टमाटर के लिए एक असामान्य लेकिन काव्यात्मक नाम है। यह टमाटर के स्वाद और सुगंध की तुलना एक परिचित मसाले से करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
सहायता
Scan the code
KARMASU.IN
नमो नमः मित्र
हम आपकी किस प्रकार सहायता कर सकते है